मुंबई में एक बार फिर खत्म हुई कोरोना की वैक्सीन

NDTV India
NDTV India
  • 0
  • 0
  • 159
Download MP4 SD 33.68MB
  • QR code for mobile device to download SD video

मुंबई में एक बार फिर टीकाकरण केंद्रों के बाहर कोरोना की वैक्सीन खत्म होने के बोर्ड लगा दिए गए हैं. सेंटर बंद होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा.
विकास रोज़गार अर्थव्यवस्था का क्या है हाल अब सवाल है कि पाँच अगस्त दो हज़ार इक्कीस को क्या होगा News Three Sixty सोमवार से शुक्रवार शाम साढ़े सात बजे सिर्फ NDTV India पर क्या होगा अगर मुझे कोरोना हो जाए क्या करें ताकि परिवार रहे सुरक्षित आखिर कब होगा इस महामारी का अंत सोशल मीडिया पर मिलेंगे सैकड़ों जवाब लेकिन उनमें बहुत से जवाब और जोखिम भरे नमस्कार हमारी खास पेशकश कोरोना वायरस अफवाह बनाम हकीकत में आप Uttar Pradesh के पाँच शहरों में लॉकडाउन के इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट के अंतरिम रोक महामारी रोकने के लिए सरकार के उठाए गए कदमों पर एक हफ्ते में मांगी जानकारी दो हफ्ते बाद अगली सुनवाई. दिल्ली में छह दिन के लॉकडाउन का आज पहला दिन सड़कों पर सन्नाटा उधर लॉकडाउन होते ही प्रवासी मजदूरों का पलायन शुरू बस अटो और रेलवे स्टेशनों पर पैर रखने की जगह दी. शहडोल के बाद अब मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी ऑक्सीजन की कमी से बड़ा हादसा दस कोरोना मरीजों की मौत की खबर. हालांकि अस्पताल का ऑक्सीजन की कमी से इन मौत से इंकार. राज्यों को जितनी vaccine दी गयी उसका तेईस फीसदी बर्बाद RTI से मिली जानकारी के मुताबिक ग्यारह अप्रैल तक करीब पौने पैंतालीस लाख vaccine dose बर्बाद भारत ने कोरोना की सुनामी एक दिन में रिकॉर्ड सत्रह सौ इकसठ मरीज़ों की मौत. हालांकि कल के मुकाबले मामलों में थोड़ी कमी. पिछले चौबीस घंटे में दो लाख, उनसठ हज़ार एक सौ साठ नए मरीज़. नमस्कार मैं हूँ Anjali Istwal और एक बजे की खबरों में आपका स्वागत है शुरुआत करते है इस वक्त की बड़ी खबर के साथ Uttar Pradesh के पाँच शहरों में लॉकडाउन के इलाहाबाद High Court के फैसले पर Supreme Court ने अंतरिम रोक लगा दी है Supreme Court ने Uttar Pradesh सरकार को notice जारी कर एक हफ्ते में महामारी पर लगाम के लिए सरकार के उठाया कदमों की जानकारी माँगी है और इस पर ज्यादा जानकारी के लिए आइए सीधा रुख करते है हमारे सहयोगी Ashish Bhargav का Ashish court ने क्या कहा है जी देखिए बहुत लंबी सुनवाई नहीं चली यहाँ पर आज ही ah UP सरकार क्योंकि कल ही का फैसला था और UP सरकार ने इशारा भी किया था कि वो Supreme Court जाएँगे तो आज सुबह Solicitor General Tushar Mehta ने ये mention किया Chief Justice SC Bobde की bench के सामने और कहा कि बहुत अहम मुद्दा है और High Court का जो फैसला है वो कार्यपालिका जो है उसके काम में उसके क्षेत्राधिकार में दखल देना है अतिक्रमण करना है इसलिए इस फैसले पर तुरंत रोक लगानी चाहिए उन्होंने ये भी कहा के सरकार भी चिंतित है माहौल को लेकर जिस तरह के हालात कोरोना गए हैं, बहुत सारे कदम उठाए जा रहे हैं। तो इस पर आज ही सुनवाई की मांग की और आज ही सुनवाई bench ने की कुछ देर पहले और सीधे ah Supreme Court ने ah, stay कर दिया है, अंतिम रोक लगा दिया high court के फैसले पर, यानी पाँच जो शहर है UP के, उनकी शायद लॉकडाउन नहीं होगा, जैसा कि इलाहाबाद High Court का order था, शुरुआत में High Court, High Court ने कहा था कि आप वापस से एक हफ्ते में High Court जाइए और जो जो कदम उठाए उसके बारे में जानकारी दीजिए ah, हालांकि ah, UP सरकार की तरफ से ये माँग की गई कि Supreme Court इस मामले को सुने, तो शुरुआत में Supreme Court थोडासा नहीं सुनना चाहता था Supreme Court का ये मानना था कि ah तमाम राज्य यहाँ पर आ जाएँगे कि आप UP सुन रहे है तो हमारा क्यों नहीं सुन रहे है लेकिन इसके बाद क्योंकि मुद्दा बड़ा है ah Supreme Court ने ah PS Narasimha ah जो एक बड़े वकील है ASG रह चुके है भारत सरकार में उनको इसमें amicus ah query बनाया है court मित्र बनाया है ताकि वो मदद कर सके और ah दो हफ्ते के बाद इस मामले की सुनवाई को ah तय किया है और कहा है कि UP सरकार जो कदम उठाए जो कदम उठाए गए हैं और जो कदम आगे उठाए जाएँगे कोरोना को रोकने के लिए वो तमाम एक रिपोर्ट दाखिल करें सुप्रीम कोर्ट के भीतर तो बड़ी राहत यहाँ पर यूपी सरकार को मिल गई है इस पूरे मामले में क्योंकि हाई कोर्ट ने कल टिप्पणियाँ की थी काफी सख्त टिप्पणियाँ की थी यूपी सरकार की प्रशासन के ऊपर और उस उसको लेकर हाई कोर्ट काफी सख्त भी था. जी शुक्रिया इस जानकारी के लिए लखनऊ से कमाल खान भी अब हमारे साथ जुड़ गए हैं. कमाल इन पाँच शहरों में अ कर्फ्यू लागू कर रही है लॉकड लागू करने में क्यों हिचकिचा रही थी UP Police UP सरकार और अब उसके लिए ये एक राहत है? हाँ फिलहाल तो जब तक ah Supreme Court की अगली सुनवाई होनी है तब तक के लिए तो राहत ही है ah सरकार कह रही है कि Saturday Sunday को साप्ताहिक बंदी होगी और night curfew लगेगा और या लग रहा है उन सब जगह जहाँ पाँच सौ से ज्यादा मरीज है या ah active या रोज आ रहे हैं तो अब सरकार का कहना है कि ah छोटे लोगों का ध्यान देके उसने ऐसा किया है और हम बहुत सारे कदम उठा रहे हैं ah कि भीड़ ना हो इस तरह का दावा सरकार का है हालांकि पंचायत चुनाव हो रहे हैं हमने बहुत जगह देखी देखा है बहुत सारे लोग पंचायत चुनाव टालने की भी माँग कर रहे थे कोरोना की वजह से लेकिन वो हुआ नहीं हुआ और बहुत जगह उसमें बहुत भीड़ लगा रहे हैं लोग मान रहे हैं नहीं रहे हैं और भीड़भाड़ हो रही है ah जिलों में ऐसा है कि व्यापार मंडल ने अपने से बाजार बंद कर रखी है जैसे Lucknow की जो main markets है वो सारी छह बड़ी markets है वो व्यापार मंडल ने बंद कर रखी है तो अब सरकार का कहना है कि हमने पहले से इंतज़ाम किए हुए है और जो permanent जो complete लॉकडाउन है उससे मुश्किल होगी इस वजह से वो नहीं किया जा सकता है जी इस जानकारी के लिए शुक्रिया आपका तो UP सरकार के लिए इस वक्त फिलहाल राहत है कि उसे ये पाँच शहरों में फिलहाल नहीं लगाना पड़ेगा लेकिन अपनी तरफ से पाबंदियाँ सरकार की तरफ से अभी भी जारी है अब बात करते है waxing की एक RTI से जानकारी मिली है कि राज्यों को जितनी vaccine दी गयी है उसका तेईस फीसदी बर्बाद हुआ है भारत में ग्यारह अप्रैल के आंकड़ों के मुताबिक जितने vaccine राज्यों ने लोगों को दिए उसमें तेईस फीसदी dose बर्बाद हो गए ग्यारह अप्रैल तक देश में दस करोड़ चौंतीस लाख टीके लोगों को दिए गए है देश में करीब चौव लाख उन्यासी हजार dose इस दौरान बर्बाद भी हुए हैं ये एक चिंता की बात है क्योंकि जब vaccine की shortage की गुहार और ये शिकायत की जाती है अलग अलग राज्यों की तरफ से तब ये भी अहम हो जाता है कि ये राज्य ये तय करें कि कोई भी dose एक भी dose बर्बाद ना हो कई लोग ऐसे हैं जो कि vaccine चाहते हुए भी नहीं लगवा सके क्योंकि वहाँ vaccine उनके center पर खत्म हो गयी थी ऐसे में जब ये खबर आती है कि लाख उन्यासी हजार dose बर्बाद हुए हैं तो वो चौकाने वाली बात है इस पर ज्यादा जानकारी के लिए सीधा रुख करते हैं Parimal का Parimal तेईस फीसदी तेईस फीसदी wastage ये ah मेरे ah ख्याल से मेरी राय में तो ये सही नहीं है आप percentage अगर wastage का देखते भी है तो वो single digit में होना चाहिए double digit में तो कभी भी नहीं निश्चित तौर पे ये जो है ah थोड़ा सा miscommunication हुआ था Anjali लेकिन ये जो चवाली লাখ نے برباد کر دی. کیونکہ اس کو صحیح سے آہ نیچی غلط طریقے سے وہ فیصلہ نہیں لیا گیا جہاں پہ آپ کے پاس لوگ نہیں رہے ہوں گے لیکن آپ نے ویکسین کی موبائل کھول دی اور اس کے بعد وہاں پر اتنے لوگ نہیں تھے جس سے اس کی بربادی روزی روکی جا سکی کیونکہ ایک لیمیٹڈ ٹائم تک ہی آپ اس ویکسین کا استعمال کر سکتے ہیں. اور یہاں پر یہ بھی سمجھنا ہے آہ کہ آہ جو راجے ہیں جنہوں نے زیادہ ویکسین ایڈمنسٹریشن کے آیا زیادہ ٹیکے لگائے ہیں ان کے ڈوجز کی بربادی کہیں زیادہ ہو. لیکن اگر پرسنٹیج کے طور پر اگر دیکھیں تو اس میں कई सारे राज्य ऐसे हैं जैसे अपमान के चलिए ah ah Tamil Nadu है उसके बाद Haryana है Punjab है जहाँ पे कम vaccine भी लगा तो उसके percentage बहुत ज्यादा है बर्बादी के ऐसी स्थिति में अब ये कोशिश हो रही है कि विदेशी vaccine का रास्ता साफ हो और वो साफ कर भी दिया गया है जहाँ पे तीन दिन के भीतर Drug Control General of India को अगर कोई अनुमति माँगता है emergency approval को लेकर तो उनको हाँ या ना में जवाब देना पड़ेगा लेकिन तीन दिन के भीतर देना पड़ेगा जहाँ पे vaccine को दो दो महीने का वक्त लगा है तो ऐसी स्थिति ये खबर इस मायने में बहुत अहम हो जाती है कि जब chain of transmission को तोड़ने का एक मात्र जरिया फिलहाल टीका माना जा रहा है वैसे हाल में जब टीके की बर्बादी होती है तो जवाबदेही राज्यों को भी लेनी चाहिए जी बहुत ah ये अहम हो जाता है ये चवालीस लाख पैंतालीस लाख dose भी बर्बाद करना हम afford नहीं कर सकते अपने देश में शुक्रिया आपका Parimal और अब बढ़ते हैं Mumbai की खबर की तरफ Mumbai में BKC Jammu center समेत कई vaccine center पे vaccine की कमी हो गयी है इससे vaccine center पर vaccine लेने आए लोगों को खास ही परेशानी का सामना करना पड़ रहा है इनमें से कई लोग तो ऐसे है जिन्होंने पहले ही vaccine के लिए appointment भी लिया था लेकिन जब ये center पर पहुँचे तो vaccine खत्म होने का notice लगाव नहीं दिखा Mumbai के सबसे बड़े vaccine center BKC Jammu से जानकारी दे रही है हमारी सहयोगी आए हैं अलग अलग center से यहाँ पे waxi लेने से sir आपने पहले से appointment ली थी Yes. पहले से लिया हुआ है message आया हुआ है अपने senior citizens को लेके आया हूँ सत्तर साल के उधर खड़ी है बोल रहे हैं रोज नहीं है वो नहीं है। hi. से आए हो? नहीं मिल रहा कहाँ से जाइए और जाएँगे आप क्या कह रहे हैं इधर का permanent BKC का लिया तो दूसरी जगह कौन लेगा हमको तो BK sir का बताया हुआ तो BKC आ गए हम जी आप बताए आप भी पहले से पहले से आए थे अभी वहाँ पे और कोई शौक नहीं है आपकी माता जी है आपकी हाँ माता जी की है ऐसे सब मतलब बाहर खड़े अच्छा नहीं लगता ना दबाव नहीं दे रहे इधर तो आप देख सकते हैं कि लोग कितने हैरान परेशान से है पहले से appointment लेके आए हुए हैं sir आप कहाँ से आए हैं UP से आए हैं आज Azamgarh district से कहाँ से Azamgarh district नहीं यहाँ पे Mumbai में कहाँ से आए हैं से हाँ पहले से आपने appointment ली है waxing के लिए नहीं नहीं ऐसे ही walk in आए हैं तो पहला center है कि और भी जाके आए हो नहीं पाला center और अभी यहाँ पे तो क्या vaccine नहीं है हाँ वही तो वही तो देख रहे है बोल रहे है vaccine नहीं है hmm तो अभी यहाँ से कहीं और जाएँगे आप देखेंगे hmm सत्तर private vaccine center में से पैंतीस already shut हो चुके है क्योंकि उनके पास stock नहीं है और बचे कूचे जो है जो government है BMC run है और जो बचे private ah centers है वहाँ पे दोपहर तक की ही vaccine available है तो फिर से vaccine की shortage देखने मिल रही है Mumbai से camera person Praveen जी Rohit के साथ Purva Chittis NDTV India খেলা হবে जब scooty ने Nandigram में गिरना तय किया है तो हम क्या करें क्या Tamil Nadu अम्मा की याद से है DMK का मुकाबला आप जवाब दीजिए भाव और ना और केरल में क्या इस बार भी बदलेगी सत्ता चुनावी difficult अब किस तरफ जाएगा Puducherry का खेल defence on who is going to come to power पाँच चुनाव सबके अपने अपने दाव हर दांव पर NDTV की खास नज़र Ami Acta Cobra देखते रहिए चुनाव मतलब NDTV India कई तरह के सवाल है जो निश्चित ही दूसरे मुद्दों की रजाई में कहीं छिप जाए प्रधानमंत्री ने चुनाव में क्यों कहा कि काला धन आएगा तो हर नागरिक को तीन तीन लाख रुपए मिलेंगे Muzaffarnagar की घटना समाज की घोर नाकामी है तो सरकार की घनघोर leak की राजनीति इतनी नाटकीय हो जाती है कि कभी विरोधी से लेकर सरकार सब दो चार दिनों के लिए प्याज़ बेचने लगते है Gandhi की तरह सादा हो जाने की हमारे नेताओं में गज़ब की चाहत है बस लगता है कि उन्होंने Gandhi की जो किताब पढ़ी है उसका cover कुछ ज़्यादा ही रंगीन दंगा कभी होता नहीं है ये कराया जाता ये कहा जाता है मुकाबला left का right से मुकाबला विचार का विचार से मुकाबला में खुद को ऊपर समझने वाले मुकाबले में पीछे छूट गए लोग भी मुकाबला गुस्से का धीरज से मुकाबला बदतमीजी का तमीज़ से पाँच trillion Dollar की तो बात कर रहे है तो उसके लिए हमें सोलह percent nominal growth चाहिए सिर्फ market और census को देखकर ये निर्धारित नहीं कर लेना चाहिए कि economy अच्छी जा रही है कि खराब जा रही है आप जो वादे करते है वो वादे हम हर दिन नहीं बदल सकते क्योंकि हम सबको किसी नतीजे पर पहुँचना है तो उसके लिए बहुत ज़रूरी है मुकाबला मुकाबला Sanket Upadhyay के साथ सिर्फ NDTV India पर वो हलचले जिनके बीच बनते जीते है हमारे शहर वो खबरें जिन पर रहती है आपकी नज़र दिल्ली हो या Mumbai हर शहर का हर रंग आपकी खबरों की दुनिया का center city center हर रोज़ रात ग्यारह बजे सिर्फ NDTV India पर खबर के अंदर होती है असली खबर जिसको पकड़ती है कोई बारीक नज़र सत्ता और सियासत की पेचीदा गलियों में और समाज की जटिल समीकरणों में सवाल और खबर कुछ ऐसी कि जवाब देना पड़ जाए मुश्किल ऐसे ही हर शाम खुलती है खबर जब हम लेते है खबरों की खबर देखिए मेरे साथ खबरों की खबर सोमवार से शुक्रवार रात आठ बजे सिर्फ NDTV India पर

Posted 18 days ago in Health & Medical